Bewafa Shayari ! बेवफाई शायरी ! पलकों में आँसु और दिल में दर्द सोया है

Spread the love

Bewafa Shayari ! बेवफाई शायरी ! 

पलकों में आँसु और दिल में दर्द सोया है,
हँसने वालो को क्या पता,
रोने वाला किस कदर रोया है,
ये तो बस वही जान सकता है
मेरी तनहाई का आलम
जिसने जिन्दगी में किसी को
पाने से पहले खोया है..!!

पूछा किसी ने की याद आती है उसकी ,
मैं मुस्करया और बोला तभी तो जिन्दा हूँ ।।

मे कितने मिले दर्द, हिसाब ना कर पाए
हम डॉक्टर होकर भी इलाज ना कर पाए
जिंदा नहीं जिंदा लाश है, वो लोग
जो अपनों से बड़ों का लिहाज न कर पाए !!

फरत सी क्यों होती है इस ज़माने से हमको,
मोहब्बत में तो उम्मीद किसी एक से ही की थी !!”

By: Dayanand Sir Alias Deepak Sir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *