Isro Chairman Gave Information About Isro’s 2022-23 Mission

Spread the love

2022-23 के लिए इसरो के मिशन-:

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अध्यक्ष के. सिवन ने हाल ही में 2022-23 की योजनाओं के बारे में घोषणा की। उन्होंने 2022-23 में किए गए मिशनों के बारे में भी जानकारी प्रदान की।

मिशन 2022-23 के लिए योजना

PSLV पर पृथ्वी अवलोकन उपग्रह 4 और 6 लॉन्च किए जाने हैं।

इसरो 2022-23 में आदित्य L1, चंद्रयान 3, XpoSat, प्रौद्योगिकी प्रदर्शन मिशन और IRNSS भी लॉन्च करेगा।

अन्य 2022-23 योजनाओं में DISHA, वीनस मिशन, ISROCNES, TRISHNA शामिल हैं।

2022-23 में पूरे किए गए मिशन

निसार मिशन: एस-बैंड  SAR पेलोड नासा को दिया गया

आदित्य L1 मिशन: हार्डवेयर लूप टेस्ट पूरा हुआ

क्रायोजेनिक चरण के दौरान हुई समस्याओं के कारण GSLV F-10 मिशन विफल रहा |

चंद्रयान 3 के डिजाइन में बदलाव किया गया बदलाव

गगनयान: क्रायोजेनिक चरण, L-IIO विकास इंजन, सर्विस मॉड्यूल प्रोपल्शन सिस्टम और क्रू एस्केप सिस्टम मोटर्स के लिए परीक्षण जारी हैं। अंतरिक्ष यात्रियों ने अंतरिक्ष उड़ान प्रशिक्षण पूरा कर लिया है। पैराशूट ड्रॉप टेस्ट शुरू हो गया है।

 **तृष्णा (TRISHNA)**

इस उपग्रह का उद्देश्य भूमि की सतह के तापमान का मानचित्रण करना है। इसे भारत और फ्रांस ने संयुक्त रूप से विकसित किया है। ‘तृष्णा’ पानी के उपयोग की निगरानी भी करेगा। इसी तरह के भारत-फ्रांस के संचालन में मेघा-ट्रॉपिक्स (Megha – Tropiques) और सरल-अल्टिका (SARAL – AltiKa) शामिल हैं। ‘सरल’ मिशन ARGOS का उपयोग करके अंतरिक्ष से समुद्र का अध्ययन करेगा। ARGOS एक डेटा संग्रहण प्रणाली है। ‘मेघा – ट्रॉपिक्स’ उष्णकटिबंधीय क्षेत्र और जल चक्र में ऊर्जा के आदान-प्रदान का अध्ययन करेगा। यह थर्मल इंफ्रारेड इमेजिंग का उपयोग करके प्राकृतिक संसाधनों का भी अध्ययन करेगा।

निसार मिशन (NISAR Mission)

यह नासा और इसरो का संयुक्त मिशन है। NISAR का अर्थ NASA – ISRO – SAR. SAR is Synthetic Aperture Radar है। राडार का उपयोग पृथ्वी की सतह पर होने वाले परिवर्तनों को मापने के लिए किया जाता है। NISAR सबसे बड़ा परावर्तक एंटीना (NASA द्वारा डिज़ाइन किया गया) ले जाएगा। निसार मिशन का मुख्य उद्देश्य हर 12 दिन में पृथ्वी को स्कैन करना है। यह समुद्री बर्फ और बर्फ की चादरों की तस्वीरें भेजेगा।

DISHA

दिशा एक जुड़वां उपग्रह प्रणाली है। यह पृथ्वी की एरोनॉमी (पृथ्वी के वायुमंडल की सबसे ऊपरी परत) का अध्ययन करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *