PUBG वाली बहु HINDI KAHANIYA: Saas Bahu Kahani 2022-23 | Hindi Pari Ki Kahani Bedtime Moral Story.

Spread the love

PUBG वाली बहु HINDI KAHANIYA: Saas Bahu Kahani 2022-23 | Hindi Pari Ki Kahani Bedtime Moral Story.

नेहा / नेहा अरे जरा मेरी मदद कर दे नेहा / नेहा यह लो आपकी चाय ए सब आपके गलती है अरे अब मैंने क्या किया यह सब आपके ही कारस्तानी है ना नेहा को नया बड़ा मोबाइल ला कर देते हैं और ना ही ऐसी रहती अरे फर्स्ट क्लास है पास हुई है तो कुछ तो देना बनता ही है हा हा हा फास्ट क्लास में पास हुई शादी करके जाएगी तो क्या ससुराल वाली डिग्री हीलाएगी / नाउ उस मोबाइल को छोड़ कर काम करती सकती है और ना ही मेरी बात मानती है

जब ससुराल वाले ताना मारे ना तो मुझे ना कहना मेरी बेटी शादी करके ससुराल जाएगी ही नहीं तुम ही उसकी जिंदगी भर अपने हाथ का खाना खिलाना आए बड़े दिन भर लड़के मोबाइल में लगी रहती है ना जाने वह क्या खेलती रहती है अरे उसे पब्जी कहते हैं हां हां वही पता नहीं क्या होगा इस लड़की का इस दिन को बस कुछ ही महीने बीते थे और आज नेहा को देखने राशि और उसकी मां नेहा के घर आए थे खैर तो बहुत सुंदर है कितनी पढ़ी लिखी है मेरी बेटे ग्रेजुएट है

वह भी फर्स्ट क्लास है अरे वाह मैं रांची के लिए पढ़ें लिखे लड़की ही ढूंढ रहे थे रांची क्या तुम्हें नेहा पसंद है राजीव ने शर्मा कर हां बोला और उन दोनों की शादी पक्की हो गई नेहा हमेशा पब्जी खेला करती थी दिन में सुबह शाम हर वक्त अरे नालायक है कुछ काम सीख ले ससुराल वाले ताना मारेंगे ना ता समझेगी नेहा अपनी मां के बातों पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं देती थी कुछ महीनों बाद राजीव औरनेहा के बड़े धूमधाम से शादी हुई दोनों परिवार वाले बहुत खुश थे शादी वाली रात थोड़ा नर्वस था अंदर का नजारा देखकर उसकी दुल्हन बड़े मजे से फोन पर पब्जी खेल रहे थी

उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या बोले अगली सुबह अरे बहू नेहा के साथ की किचन में नाश्ता बनाने लगे सारा नाश्ता तैयार हो गया कमाल है नेहा अब तक नहीं आए चल कर देखती हूं नेहा की सास जब उसे कमरे में गई तो नेहा अपने फोन में पब्जी खेल रही थी मैं कब से आवाज दे रही हूं और तुम यहां गेम खेल रही हो ओमा जी अगर मैं गेम छोड़ देती तो तो कोई मुझे मार देता 1 मिनट में आज 1 मिनट ठीक है नाश्ता तैयार है नाश्ता करने आ जाओ राजीव और उसकी मां दोनों नाश्ता करने पहुंच गई लेकिन नेहा अभी गेम खेलने में बिजी थी मैं कब से इस लड़की को वश दे रही हूं

लेकिन यह गेम छोड़ती ही नहीं राजीव चुपचाप नाश्ता करने लगा उसने अपनी मां को कोई जवाब नहीं दिया नाश्ता खत्म करके घर का सारा काम करने लगी फिर उसने दोपहर का खाना बनाया अजीब है यह लड़की अब तक नहीं आई और फिर बरखा खाना बनाने में बिजी हो गई सारा खाना तैयार होने के बाद राजीव बेटा राजीव बहू बहू राजीव टेबल पर आ गया लेकिन नेहा वहां नहीं पहुंची मैं नेहा को बुला कर लाती हूं एक क्या तू अब तक गेम ही खेल रहे हो मां तुम्हारा इंतजार कर अरे अभी तो कुछ देर पहले शुरू किया है दोपहर के 1:00 बज गए और तुम अभी गेम खेल रही हो वह 1:00 बज गए हैं सही तो बोलो मुझे अभी इतनी भूख क्यों लगी है

नेहा ने फोन वही रख दिया और राजीव के साथ खाना खाने चल गई सॉरी वह मैं गेम खेल रही थी ठीक है लेकिन गेम से पेट नहीं भरता सुबह नाश्ता भी नहीं की हां मुझे भूख लगी है फिर तीनों ने साथ में खाना खाया अब वापस गेम खेलने नहीं लग जाना तुम्हें देखने मेरे रिश्तेदार आ रहे हैं ठीक है मामा जी नेहा अपने कमरे में गई और फ्रेश होकर अपने कपड़े चेंज की अभी लोगों को आने में काफी समय है तब तक एक गेम खेल लेती हूं और नेहा ने वापस गेम शुरू किया कुछ देर बाद बरखा उसके कमरे में आई चलो सब आ चुके हैं ठीक है मामा जी बरखा की सहेलियों ने नेहा को देखा और उसकी तारीफ की बरखा बहुत खुश थी लेकिन अगले दिन फिर नेहा ने पब्जी खेलने में मगन हो गई बहू बहू बहू बरखा इतनी बाजी लगाकर दी थी लेकिन नेहा उसकी एक न सुनते थे

यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा राजीव मैं इसकी गेम किलर से तंग आ गई हूं अब मैं क्या बोलूं हां मैं भी परेशान हूं हमें इसके परिवार वालों से बात करनी चाहिए जैसे आपको ठीक लगे मां भड़काने नेहा को मम्मी पापा को बुलाया और उनकी शिकायतें करने लगी अब आप ही बताइए कि मैं इसका क्या करूं मैं इतना चिल्लाती रहती हूं पर यह तो सुनती ही नहीं बस अपने पब्जी में डूबी रहती है बहन जी मुझे अपने बेटे के लिए पढ़े लिखे बहू चाहिए थी एक पब्जी वाली बहू नहीं मेहरबानी कीजिए और इसे ले जाइए नेहा के माता-पिता बहुत शर्मिंदा है उन्होंने बरखा को समझाने की बहुत कोशिश की पर ना माने अंत में नेहा को उसके मम्मी पापा के साथ उसके घर जाना पड़ा मैं ना कहती थी यह ससुराल में नाम खराब करेगी हां अब मैं लोगों को कैसे मुंह दिखाऊंगा पर नेहा को इसकी बड़ी नहीं थी वह भी पब्जी में बिजी थी/

जिस घर में मां के कद्र नहीं होती,उस घर में कभी बरकत नहीं होती !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *